इतिहास / History

भारतीय प्रमुख गवर्नर जनरल एवं वायसराय के कार्यकाल की घटनाएँ

भारतीय प्रमुख गवर्नर जनरल एवं वायसराय के कार्यकाल की घटनाएँ –

Contents

वारेन हेस्टिंग्स (1774-1785)

  • ब्रिटिश शक्ति को दक्षिण में बढ़ाया एवं मराठा प्रभाव को रोका।
  • बहुत से प्रशासनिक सुधार किये।
  • 1774 ई०. कलकत्ता में सर्वोच्चु न्यायालय की स्थापना हुई।

लार्ड कार्नवालिस (1786-1793)

  • 1793 में भूमि का स्थायी बन्दोबस्त किया

सरजान शोर (1793-1798)

लाई बेलेजली (1798-1805)

  • मूहायक सन्धि की नीति द्वारा बहुत से देशी राज्यों को अधीन किया।

लार्ड कार्नवालिस (1805)

  • दुबारा गवर्नर जनरल बना, (दिवगत हो गए 1805 में)।

लाई मिन्टो प्रथम (1807-1813)

लार्ड हेरिटंग्स (1813-1823)

  • अंग्रेजी सर्वश्रेष्टता भारत में स्थापित ।

लार्ड एमहस्स्ट (1823-1828)

विलियम वैटिक ( 1828-1835)

  • सूती प्रया, शिशुवध, ठगी प्रथा समाप्ति सम्बन्धी बहुत से सामाजिक सुधार किये।
  • अंग्रेजी को उच्चशिक्षा का माध्यम बनाया।
  • 1833 में इसे भारत का प्रथम गवर्नर जनरल नियुक्त किया गया।

इसके पहले सभी बंगाल के गवर्नर जनरल थे एवं देश के अन्य गवर्नरों पर अधिकार रखते थे।

लार्ड आक लैण्ड (1836-42)

लार्ड एलनबरो (1842-44)

लार्ज हार्डिंग (1844-1849)

लार्ड डलहौजी (1849-56)

  • (Doctrine of Lapse) व्यपहरण के सिद्धान्त द्वारा अंग्रेजी साम्राज्य में विस्तार किया।
  • रेलवे एवं तार की व्यवस्था किया एवं डाक व्यवस्था में सुधार किया।
  • पी० डब्लू 0 डी० विभाग बनाया, इंजीनियरिंग स्कूल खोले।
  • विज्ञान, वानिकी, वाणिज्य उद्योग, खान आद्वि को प्रोत्साइन दिया।
  • झिक्षा पर चार्ल्स वुडू् डिस्पैच (1854)।

लार्ज कैनिंग (1856–1862)

  • कम्पनी-अधीन भारत का-अन्तिम सवनर जनरल एवं ब्रटिश भारत (क्राउन के अधीन) का प्रथम वायसराय बना 1858।
  • 1857 की क्रान्ति हुई एवं कम्पनी शासन का अन्त हुआ।
  • इलाहाबाद में 1 नवम्बर, 1858 को महारानी विक्टोरिया द्वारा जारी घोषणा पढ़ी गयी।
  • 1857 में भारत का प्रयम विश्वविद्यालय कुलकत्ता में एवं तत्पकचात बाम्बे एवं मद्रास में स्थापित शुआ ।
  • 1861 में इन्डियन कैंसिल ऐक्ट पास हुआ, पोर्टफोलियो प्रणाली लागू।
  • भारतीय दण्ड संहिता, सिविल एवं दण्ड प्रक्रिया संदिता अधिनियमित हुई।
  • कलकत्ता, बाम्बे मद्ररा में उच्चन्यायालय स्यापित किये गये (1861)।

लारईड एलिगिन (1862-63)

  • बहावियों के विरुद्ध पश्चिमोत्तर अभियान किया।

लारेन्स (1864 69)

  • तटस्थ खीमा नीति अपनाया, भूटान से युद्ध, सिंचाई सुविधा विकास, पंजाब-अवध टेनेन्सी ऐक्ट, उड़ीसा में सूखा (1866) पड़ा ।

लाई मायो (1869-72)

  • अम्बाला दरबार (1269) आयोजित हुआ ।

लार्ड नार्थब्रुक (1872–1876)

  • गायकवाड़ बड़ौदा का भामला (1873–75), मल्हार राव पर कुशासन का आरोप लगाया।

लार्ड लिटन ( 1876-80)

  • अकाल एवं दिल्ली दरबार (1877),
  • सरकारी आलोचना पर प्रतिबन्ध लगाने वाला वर्नाक्यूलर ऐक्ट 1878,
  • हथियार रखने पर प्रतिबन्ध लगाने वाला आम्म्स ऐक्ट 1878,
  • आई० सी एस० परीक्षा की आयु घुटा कर 19 वर्ष करना,
  • अफगान युद्ध, भारतीयों को प्रोत्साहन के लिए स्टेंट्टरी सिविल सर्विस की स्थापना।

लार्ड रिपन (1880-84)

  • वर्नाक्यूलर प्रेस ऐक्ट रद्द (1881) फैक्टरी कानून 1881,
  • शिक्षा सुधार के लिये हुन्ट्र आयोग 1882,
  • स्थानीय संस्था सम्बन्धी प्रस्ताव पारित 1882,
  • स्थानीय संस्था सम्बन्धी प्रस्ताव पारित 1882,
  • स्थानीय निकाय में चूनाव प्रणाली,
  • कलकत्ता में इण्डियन नेशनल कांफ्रेंस सूरेन्द्र नाथ बनर्जी द्वारा आयोजित 1883,
  • जनगणना प्रारम्भ,
  • 1883 में इलबर्ट विल द्वारा भारतीयों को यूरोपियन के मुकदमों की सुनवायी का अधिकार मिला,
  • डिस्ट्रिक्ट बोर्ड की स्थापना 18821

लार्ड डफरिन (1884-88)

  • 28 दिसम्बर 1885 को गोकुल दास तेज भवन ( बाम्बे) में कांग्रेस की स्थापना।

लार्ड लैन्सडाउन (1888-94)

  • डूरेन्ड रेखा नामक सीमा रेखा भारत एवम् अफगानिस्तान के बीच बनी (1893),
  • भारतीय कौंसिल ऐक्ट 1892 पारित,
  • कप्मीर एवम् मणिपुर के मामले में हस्तक्षेप प्रथम भारतीय दादा भाई नौरोजी ब्रिटिश संसद सदस्य बने (1892)।

डलार्ड एल्गिन द्वितीय (1894-99)

  • चितराल में विद्रोह 1896 में सूखा एवम् प्लेग का प्रकोप।

लार्ड कर्जन (1899-1905)

  • पश्चिमोत्तर सीमान्त प्रान्त की जनजाति समस्या का समाधान, पंजाब लैण्ड एलिएशन ऐक्ट 1900,
  • जिसके द्वारा कृषि भूमि को गैर कृषकों या कर्जदारें को बन्धक एवं विक्रय पर रोक लगायी गयी,
  • कलकत्ता कारपोरेशन ऐक्ट 1899,
  • प्राचीन स्मारक कानून 1904,
  • भारतीय विश्वविद्यालय कानून 1904,
  • बुंगाल का बैटवारा एवं उग्रविरोध (1905),
  • (सैनिक) सदस्यों के स्तर सम्बन्धी मतभेद के कारण लार्ड कर्जन का इस्तीफा।

लाई मिन्टो (1905-10)

  • मुस्लिम लीग की स्थापना 1906,
  • कांग्रेस का सूरत विभाजन 1907,
  • स्वुदेशी एवं बायकाट आन्दोलन (I906),
  • मिन्टो मार्ले (इन्डियन कॉसिल ऐक्ट) सुधार 1909,
  • मुसलमानों के लिये अलग निर्वाचन व्यवस्था,
  • आंग्ल-रूस सम्मेलन 1907 ।

लारईड हार्डिंग (1910-1915)

  • जार्ज पंचम की भारत यात्रा,
  • बंग – भंग रद्द,
  • दिल्ली दरबार एवं कलकत्ता से दिल्ली राजधानी हरतांतरण (1911),
  • इंडियन प्रेस ऐक्ट 1910,
  • वायसराय पर दिल्ली में बम फेंका गया (1912),
  • रवीन्द्रनाथ टैगोर को गीतांजलि पर नोबूल पुरस्कर मिला ।

लार्ड चेम्स फोर्ड (1916-21)

  • कांग्रेस का लखनऊ एकीकरण एवं लीग माटेग्यू-चेम्सफोर्ड (भारत सरकार ऐक्ट 1919) सुधार,
  • बिना परीक्षण के निरोध के लिये रौलेट ऐक्ट 1919,
  • जलियाँवाला बाग लखनऊ समझौता (1916),
  • हत्या कांड (1919,
  • हण्टर समिति 1919,
  • मार्शल ला खिलाफत आन्दोलन 1919 एवं असहयोग आन्दोलन 1920 ।

लार्ड रीडिंग (1921-26)

  • प्रिंस वेल्स की भारत यात्रा एवं बहिष्मर 1921,
  • चौरी–चौरा (गोरखपुर) कांड 1922,
  • स्वराज्य पार्टी की स्थापना 1923 आदि ।

लार्ड इरविन (1926-31)

  • साइमन कमीशन की नियुक्ति (1927),
  • भारत आगमन (1928) एवं बहिष्कर,
  • लाहौर अधिवेशन में कांग्रेस द्वारा पूर्ण स्वराज्य का लक्ष्य निर्धोरित एवं 26 जनवरी 1930 को स्वतंत्रता दिवस मानने की घोषणा (31 दिसम्बर, 1931),
  • गाँधी का डांडी मार्च,
  • सविनय अवज्ञा आन्दोलन 1932,
  • लन्दन में गोलमेज सम्मेलन (1930),
  • राजनैतिक बन्दियों की रिहाई एवं अवज्ञा आन्दोलन की समाप्ति सम्बन्धी गाँधी-इरविन समझौता 1931,
  • सरदार पटेल ने वारदोली सत्याग्रह किया (1928) ।

जाई वैलिंगटन (1931-36)

  • लन्दन गोलमेज सम्मेलन (1931-32),
  • रैम्सेमैकडोनाल्ड द्वारा कम्पूनल एबार्ड की घोषणा,
  • पूना समझौता,
  • भारत सरकार अधिनियम 1935 पारित

लाई लिनलियगो (1936-42)

  • प्रान्तों में चुनाव 1937,
  • चन्द्र बोस द्वारा फारवडे ब्लाक की स्थापना,
  • द्वितीय विश्व युद्ध की शुरुआत एवं कांग्रेसी मंत्रिमंडल का इस्तीफा ।939,
  • अगस्त प्रस्ताव 1940,
  • क्रिप्स मिशन का आगमन,
  • भारत छोड़ो आन्दोलन 1942,
  • लीग के लाहौर अधिवेशन में पाकिस्तान की माँग 1940 आदि ।

लार्ड वावेल (1944-47)

  • शिमला सम्मेलन एवं वावेल योजना (1945),
  • गुडविल (सद्भावना) मिशन की भारत यात्रा,
  • कैबिनेट मिशन 1946,
  • अन्तरिम सरकार का गठन एवं 9 दिसम्बर को संविधान सभा की बैठक 1946,
  • ब्रिटिश सरकार (प्रधानमंत्री एटली-लेबर पार्टी) द्वारा शक्ति हस्तांन्तरण की घोषणा 1947।

माउन्टबेटन (1947-48)

  • विभाजन के लिए माउन्टबेटन योजना (3 जून 1947),
  • जुलाई 1947 में भारतीय स्वाधीनता ऐक्ट,
  • 15 अगस्त को स्वतंत्र भारत-पाक राज्य बना,
  • जिन्ना स्वतंत्र पाक के एवं माउन्टबेटन स्वतंत्र भारत के प्रथम गुवर्नर जनरल बने।

 INTRODUCTION TO COMMERCIAL ORGANISATIONS

गतिक संतुलन संकल्पना Dynamic Equilibrium concept

भूमण्डलीय ऊष्मन( Global Warming)|भूमंडलीय ऊष्मन द्वारा उत्पन्न समस्याएँ|भूमंडलीय ऊष्मन के कारक

 भूमंडलीकरण (वैश्वीकरण)

मानव अधिवास तंत्र

इंग्लॅण्ड की क्रांति 

प्राचीन भारतीय राजनीति की प्रमुख विशेषताएँ

Disclaimersarkariguider.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है | हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है| यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- sarkariguider@gmail.com

About the author

Kumud Singh

M.A., B.Ed.

Leave a Comment

error: Content is protected !!