विश्व का इतिहास / World History

इंग्लैंड की क्रांति | England Revolution history in Hindi

इंग्लैंड की क्रांति England Revolution history in Hindi
इंग्लैंड की क्रांति England Revolution history in Hindi

इंग्लैंड की क्रांति | England Revolution history in Hindi

इंग्लैंड की क्रान्ति

सम्पूर्ण विश्व के इतिहास मेन इंग्लैंड की क्रान्ति पहली राजनीतिक क्रान्ति थी | जनता राजा के अत्याचारों एवं कठोर धार्मिक अनुशासन से ऊब चुकी थी | इंग्लैंड की क्रान्ति का मूल कारण राजा और संसद के मध्य सत्ता संघर्ष था | 1688 ई० मे इंग्लैंड मे एक ऐसी राजनीतिक क्रान्ति हुई जिसमें हिंसा, रक्तपात, लूट आदि का कोई स्थान नहीं था | इस क्रान्ति के फलस्वरूप इंग्लैंड में सदियों से चली आ रही राजतंत्रीय शासन व्यवस्था की इतिश्री हो गयी | इस क्रान्ति को रक्तहीन क्रान्ति, महान क्रान्ति, गौरवपूर्ण क्रान्ति, शानदार क्रान्ति, श्वेत क्रान्ति आदि नामों से पुकारा जाता है |

क्रान्ति की पृष्ठभूमि

यह गौरव पूर्ण क्रान्ति स्टुअर्ट वंश के शासक जेम्स द्वितीय (1685-1688 ई०) के शासन काल में हुई | इस क्रान्ति की पृष्ठभूमि इंग्लैंड के राजाओं और संसद के मध्य सत्ता संघर्ष में विधमान थी | इंग्लैंड संसार का पहला देश था जहां सर्वप्रथम संसद की स्थापना हुई थी | 11वी शताब्दी में राजा हेनरी प्रथम ने शासन कार्यों में परामर्श लेने के लिए एक सलाहकार समिति (परिषद) की स्थापना की जिसे ‘क्यूरिया रेजिस’ (राजा की परिषद) कहा गया | धीरे धीरे संसद का रूप धरण कर लिया |

1215 ई० में रहा जॉन की नीतियों से असंतुष्ट होकर सामंतों (बैरनों) ने एक घोषणा पत्र तैयार किया | राजा को बाध्य होकर 15 जून 1215 को इसे स्वीकार करना पड़ा |

इंग्लैंड की क्रान्ति के कारण

  • जेन्स द्वितीय की निरंकुशता
  • कैथोलिकों की नियुक्तियाँ
  • कोर्ट औफ़ हाई कमीशन के न्यायालय की पुन: स्थापना |

अधिकार घोषणा पत्र (बिल औफ़ राइट्स)

गौरव पूर्ण क्रान्ति के पश्चात 1689 ई० में संसद में एक अधिकार विधेयक पास किया गया | उसका उद्देश्य राजा और संसद के अधिकारियों का निर्धारण करना था | जिसके कुछ तथ्य निम्नलिखित हैं –

  1. राजा संसद के बिना तथा संसद राजा के बिना कोई नियम नहीं लागू कर सकती है |
  2. राजा संसद के बिना कोई कर नहीं लगा सकता है |
  3. सेना भर्ती संसद के स्वीकृति से ही होगी |
  4. दंड, जुर्माने आदि अधिकार राजा से ले लिए गए |
  5. बर्ष में एक बार संसद अधिवेशन अनिवार्य रूप से होगा |
  6. वित्त तथा सेना पर संसद का अधिकार होगा |

 

Disclaimersarkariguider.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है | हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है| यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- sarkariguider@gmail.com

 

About the author

Kumud Singh

M.A., B.Ed.

Leave a Comment

error: Content is protected !!