प्रबंधन सूचना प्रणाली / Management Information System

नेटवर्क का वर्गीकरण | लोकल एरिया नेटवर्क (लैन) की विशेषताएँ | वाइड एरिया नेटवर्क (वैन) से आशय | वाइड एरिया नेटवर्क (वैन) के उपयोग | वाइड एरिया नेटवर्क (वैन) की विशेषताएँ

नेटवर्क का वर्गीकरण | लोकल एरिया नेटवर्क (लैन) की विशेषताएँ | वाइड एरिया नेटवर्क (वैन) से आशय | वाइड एरिया नेटवर्क (वैन) के उपयोग | वाइड एरिया नेटवर्क (वैन) की विशेषताएँ | Classification of networks in Hindi | Features of Local Area Network (LAN) in Hindi | What is meant by Wide Area Network (WAN) in Hindi | Wide Area Network (WAN) usage in Hindi | Features of Wide Area Network (WAN) in Hindi

नेटवर्क का वर्गीकरण (Classification of Network)

नेटवर्क का वर्गीकरण उनकी भौगोलिक दूरी के आधार पर किया जाता है। यह निम्नलिखित प्रकार के होते हैं-

(1) लोकल एरिया नेटवर्क (लैन) (Local Area Network-LAN)

लोकल एरिया नेटवर्क (लैन) पर्सनल कम्प्यूटरों या वर्कस्थानों, प्रिण्टरों, डिस्क एवं अन्य उपकरणों के अन्तर-सम्बन्ध की प्रणाली है। इसमें सूचनाओं का आदान-प्रदान हो सकता है। वर्तमान में लैन का अत्यधिक प्रयोग किया जा रहा है। इसका क्षेत्र 1 से 10 किलोमीटर तक हो सकता है। लैन कई व्यक्तियों को कम्प्यूटर कार्यक्रमों एवं सूचनाओं में भागीदारी करने की इजाजत  देता है।

लोकल एरिया नेटवर्क (लैन) की विशेषताएँ (Characteristics of Local  Area Network) — लैन की निम्नलिखित विशेषताएँ है-

  1. सभी उपयोगकर्त्ता डिवासेज द्वारा एक सामन्य सम्प्रेषण माध्यम का प्रयोग किया जाता है, जो आँकड़ों, सूचनाओं कार्यक्रमों, उपकरणों का उपयोग करते हैं।
  2. उच्च डाटा अन्तरण दर (सामान्य रूप से I Mbps to 100 Mbps तक) यहाँ पर Mbps का पूर्ण रूप mega bits per second है।
  3. एक सीमित भौगोलिक क्षेत्र,
  4. न्यून त्रुटि पर,
  5. नेटवर्क का विस्तार करना सरल होना,
  6. वर्क स्टेशनों के बीच बेहतर संचार सुविधा होना,
  7. कम व्यय वाले सम्प्रेषण उपकरणों का उपयोग होना,
  8. वेन के अपेक्षा कम लागत होना।

लैन के लाभ (Merits of LAN)- लैन के लाभ निम्नलिखित हैं-

  1. कुल लागत दर में कमी आती है। क्योंकि नेटवर्क में उपलब्ध संसाधनों एवं लैन डाटा का साझा उपयोग किया जाता है।
  2. नेटवर्क को आसानी से कम व्यय किये ही बढ़ाया जा सकता है।
  3. लैन संगठन की उत्पादकता तथा विश्वसनीयता बढ़ाई जा सकती है।
  4. डाटा सुरक्षा-सरल हो जाती है।

लैन के दोष (Demerits of LAN)- लैन के दोष निम्नलिखित हैं-

  1. सुरक्षा हेतु उपयुक्त सुरक्षा करना आवश्यक होता है।
  2. लैन में अधिक मेमोरी की जरूरत पड़ती है।

(2) वाइड एरिया नेटवर्क (वैन) से आशय

(Meaning of Wide Area Network)

वाइड एरिया नेटवर्क (वैन) में कई स्वशासी कम्प्यूटर सम्मिलित होते हैं। ये विस्तृत भौगोलिक क्षेत्र में फैले होते हैं। यह विषम प्रकार का नेटवर्क है। इण्टरनेट सबसे व्यापक वैन है जिससे लाखों कम्प्यूटर जुड़े रहते हैं। वैन के द्वारा दो या दो से अधिक लेन को जोड़ा जा सकता है। वैन बहुत से कम्प्यूटर केबल, टेलीफोन लाइन, ऑप्टीकल फाइबर, सैटेलाइट, माइक्रोवेब आदि से जुड़े होते हैं।

वाइड एरिया नेटवर्क (वैन) के उपयोग (Use of Wide Area Network- WAN)

  1. वाइड एरिया नेटवर्क विस्तृत भौगोलिक सीमा में कार्य करता है। वैन सतत् त्रुटि खोज एवं सुधार तकनीकों को जोड़ती है। वैन एक ही भौतिक माध्यम द्वारा एक साथ मेजबान कम्प्यूटरों की विविधता तक पहुँचने के लिए बहुसंख्यक उपयोगकर्ता की इजाजत देता है।
  2. वैन का उपयोग करके क्रिय टर्मिनल के प्वाइंट पर संव्यवहारों के आँकड़ों की प्रविष्टि करना सम्भव होता है। इन आँकड़ों को प्रक्रियायन अथवा प्रतिवेदन करने के उद्देश्य से कम्प्यूटर में केन्द्रित करना सम्भव होता है। उदाहरण के तौर पर विभिन्न स्थानों पर स्थित मेगा मॉल्स, जो वेन के माध्यम से जुड़े होते हैं, वे अपने द्वारा सभी लेन-देन सम्बन्धी सूचनाएँ एवं आँकड़े अपने विभिन्न केन्द्रों पर भेज सकते हैं।

वाइड एरिया नेटवर्क (वैन) की विशेषताएँ (Characteristics of Wide Area Network-WAN)- वैन की विशेषताएँ निम्नलिखित है-

  1. वैन एक विषम नेटवर्क होता है।
  2. वैन का क्षेत्र अति व्यापक होता है। इसकी भौगोलिक क्षेत्र की सीमा सीमित होती है।
  3. डाटा अभिहस्तांकन की दर अत्यन्त उच्च होती है।
  4. त्रुटियों की दर तुलनात्मक रूप से अधिक होती है।
  5. नेटवर्क की डिजाइन जटिल होती है।

लैन तथा वैन में अन्तर (Difference in LAN and WAN)

LAN तथा WAN में प्रमुख अन्तर निम्नलिखित हैं-

लैन (LAN)

वैन (WAN)

1. LAN सीमित भौगोलिक क्षेत्र में काम करता है।

1. WAN का कार्य क्षेत्र बहुत विस्तृत होता है।

2. LAN में कम्प्यूटर प्रायः तारों अथवा केबलों के माध्यम से जुड़े रहते हैं।

2. WAN में यह जरूरी नहीं है कि कम्प्यूटरों के मध्य कोई भौतिक लिंक हो, क्योंकि WAN में टेलीफोन लाइनों के अतिरिक्त उपग्रह चैनलों का भी प्रयोग किया जाता है।

3. LAN में आँकड़ों के प्रेषण की गति तीव्र होती है। यह गति सामान्य रूप से 0.1 से 100 मेगाबाइट प्रति सेकेण्ड तक हो सकती है।

3. WAN में आँकड़ों के प्रेषण की गति LAN की तुलना में कम होती है। यह गति सामान्य रूप से 1200-9600 बिट प्रति सेकेण्ड होती है।

4. LAN में आँकड़ों के संचार का खर्च बहुत कम होता है।

4. WAN में आँकड़ों के संचार का खर्च अधिक होता है।

5. LAN प्रायः किसी संस्था या उद्देश्य-विशेष से सम्बन्धित होते है।

5. WAN राष्ट्रव्यापी होते हैं।

6. LAN में दूरी कम होने के कारण आँकड़ों के संचार में त्रुटियाँ कम होती है।

6. WAN में लम्बी दूरी होने के कारण आँकड़ों के संचार में प्रायः त्रुटियाँ (Errors) होती हैं। कभी-कभी त्रुटि-निवारण में पर्याप्त लागत भी आ जाती है।

मैन (WAN)- मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क या मैन जो कि एक विस्तृत नेटवर्क है एक ही शहर के कई बिल्डिंग से सम्बन्धित होते हैं। ये विस्तृत नेटवर्क क्षेत्र में फैले होते हैं। आई.यू.बी. (I.U.B.) नेटवर्क मैन का उदाहरण है। मैन एक विस्तृत नेटवर्क है जबकि लैन का सम्बन्ध एक बिल्डिंग से होता है। वृहत नेटवर्क के लिए प्रायः विभिन्न लैन को मैन के साथ जोड़ा जाता है। जब मैन नेटवर्क को कालेज कैम्पस के लिए जोड़ा जाता है तो इसे कैम्पस एरिया नेटवर्क (CAN-कैन) कहते हैं।

प्रबंधन सूचना प्रणाली  महत्वपूर्ण लिंक

Disclaimer: sarkariguider.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है। यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- sarkariguider@gmail.com

About the author

Kumud Singh

M.A., B.Ed.

Leave a Comment

error: Content is protected !!