इतिहास / History

सिन्धु घाटी की सभ्यता के निर्माता या निवासी कौन थे? | क्या आर्य सिन्धु सभ्यता के निर्माता थे? | क्या सुमेरियन- सिन्धु सभ्यता के पिता थे?

सिन्धु घाटी की सभ्यता के निर्माता या निवासी कौन थे? | क्या आर्य सिन्धु सभ्यता के निर्माता थे? | क्या सुमेरियन- सिन्धु सभ्यता के पिता थे?

सिन्धु घाटी की सभ्यता एवं संस्कृति के निर्माता (विवादास्पद विषय)

सिन्धु सभ्यता तथा संस्कृति विश्व के सांस्कृतिक इतिहास का प्राचीनतम अध्याय है। अति प्राचीन होने के कारण इस संस्कृति के निर्माताओं के विषय में परिचय देने वाले सूत्रों तथा स्रोतों का अभाव है। डा० राधाकुमुद मुखर्जी ने इस सभ्यता तथा संस्कृति के निवासी या निर्माताओं के विषय में लिखा है, ‘मोहनजोदड़ो से प्राप्त नर कंकालों से चार नस्लों का प्रमाण मिलता है, अर्थात् आद्यनिषाद, भूमध्य सागर से सम्बन्धित जन, मंगोल तथा अल्पाइन।…… इस प्रकार सिन्धु घाटी की जनता नाना दिगदेशगत थी।’ इस, विचार के विपरीत सर्वश्री रामचन्द्रन, शंकरानन्द, पुसलेकर तथा दीक्षितार आदि विद्वान वैदिक आर्यों को सिन्धु संस्कृति के निर्माता मानते हैं तिपय अन्य विद्वानों का अभिमत है कि इस सभ्यता एवं संस्कृति के निर्माता वे थे जो आगे के आगमन से पूर्व यहाँ पर निवास करते थे। एक अन्य मतानुसार ऋग्वेद में वर्णित ‘दास-दस्यु’ सिन्धु सभ्यता के निवासी तथा निर्माता थे। डा० सुनीत कुमार, फादर हेरास तथा हाल के अनुसार इस सभ्यता के निर्माता द्रविड़ थे। गार्डन चाइल्ड ने सुमेरियनों को सिन्धु सभ्यता का निर्माता माना है।

उपरोक्त मतवैभिन्य ने सिन्धु सभ्यता तथा संस्कृति के निर्माता या निवासियों के प्रश्न को जटिल बना दिया है। सही वस्तुस्थिति का परिचय पाने के लिये हम इस प्रश्न पर निम्नलिखित रूप से विचार करेंगे-

  1. क्या आर्य सिन्धु सभ्यता के निर्माता थे ?

तर्क- आर्यो को सिन्धु सभ्यता का निर्माता मानने वाले विद्वत् वर्ग का प्रमुख तर्क यह है कि आर्यों की ऋग्वैदिक तथा सिन्धु घाटी की सभ्यता में समानता है।

खण्डन- इस मत को स्वीकार करने में निम्नलिखित बाधायें हैं-

(1) आर्य सभ्यता कृषि तथा ग्राम प्रधान थी, जबकि सिन्धु सभ्यता व्यापार, व्यवसाय तथा नगर प्रधान थी।

(2) आर्य युद्ध प्रिय थे जबकि सिन्धु निवासी शान्तिप्रिय प्रतीत होते हैं।

(3) ऋग्वैदिक आर्यों को अग्नि से विशेष प्रेम था, जबकि सिन्धु निवासी जल से प्रेम करते थे।

(4) आर्यों के लिये गाय माता समान थी तो सिन्धु निवासी बैल को प्रमुखता देते थे।

(5) वैदिक संहिताओं के अनुसार आर्य देवताओं में विश्वास रखते थे तथा हड़प्पा के निवासी असुर थे।

(6) आर्य भूसामन्त शरीर में विश्वास रखते थे जबकि सिन्धु सभ्यता के निवासी भौतिक शरीर को आत्मा मानकर उसे चिरकाल तक सुरक्षित रखने का यत्न करते थे।

(7) आर्यों तथा सिन्धु निवासियों की शारीरिक रचना में पर्याप्त भेद है।

(8) आर्यों तथा सिन्धु निवासियों की धार्मिक मान्यताएँ भिन्न तथा परस्पर विरोधी हैं।

(9) आर्य ताम्र, सीसा, कांसा, सोना, चाँदी तथा लोहे का प्रयोग करते थे जबकि सिन्धु निवासी पाषाण, लकड़ी, ताम्र तथा काँसे का ही प्रयोग करते थे।

निष्कर्ष- आर्यों तथा सिन्धु निवासियों की उपरोक्त भिन्नता के कारण हम सरजॉन मार्शल के इस कथन से सहमत हैं कि “सिन्धु सभ्यता तथा आर्य सभ्यता के निर्माता, इन सभ्यताओं की विषमता के कारण किसी भी दशा में एक नहीं हो सकते।” अतः आर्य जाति सिन्धु-सभ्यता की निर्माता या निवासी नहीं थी।

क्या सुमेरियन- सिन्धु सभ्यता के पिता थे ?

तर्क- गार्डन चाइल्ड तथा डा० हाल का अभिमत है कि सिन्धु सभ्यता के निर्माता सुमेरियन थे। इस विषय में वे निम्नलिखित तर्क प्रस्तुत करते हैं-

(1) सिन्धु तथा सुमेरियन सभ्यता एवं संस्कृति में समानता है।

(2) द्रविड़ जाति मूलतः सुमेरियन थी।

खण्डन

(1) सुमेरियन सभ्यता युद्ध प्रिय थी जबकि सिन्धुजन शान्तिप्रिय थे।

(2) समेरियन गृहों का निर्माण कच्ची ईंटों द्वारा किया जाता था जबकि सिन्धु गुहों का निर्माण पकाई हुई ईंटों द्वारा हुआ था।

(3) सुमेरियन मन्दिर बनवाते थे जबकि सिन्धु घाटी की सभ्यता के अवशेषों में मन्दिर का कोई प्रमाण नहीं मिलता।

(4) सुमेरियनों की निर्माण शैली में आकर्षणता तथा अलंकरण है जबकि सिन्धु घाटी के निर्माण सादे तथा मजबूत हैं।

(5) सिन्धु घाटी की सभ्यता में पाषाणकाल से लेकर धातु युग का संक्रमणकाल दृष्टिगोचर होता है जबकि सुमेरियन सभ्यता एकांगी थी।

(6) सुमेरियनों तथा द्रविड़ों को एक जाति नहीं माना जा सकता।

निष्कर्ष- सिन्धु घाटी तथा सुमेरियन सभ्यता एवं संस्कृति की उपरोक्त विषमताएँ हमें इस निष्कर्ष पर पहुँचाती हैं कि इन दोनों सभ्यताओं में आधारभूत भिन्नता है। डा० राधाकुमुद मुखर्जी के अनुसार-

“The Indus valley civilisation is not closely connected with nor borrowed from Mesopotamian civilisation.”

इतिहास – महत्वपूर्ण लिंक

Disclaimer: sarkariguider.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है। यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- sarkariguider@gmail.com

About the author

Kumud Singh

M.A., B.Ed.

Leave a Comment

error: Content is protected !!